मंकीपॉक्स ने निपटने स्वास्थ्य मंत्रालय ने गठित किया टास्क फोर्स

नई दिल्ली

 देश में मंकीपॉक्स अब धीरे-धीरे पैर पसारने लगा है। अबतक 8 लोग इस वायरस के चपेट में आ चुके हैं। ऐसे में भारत सरकार सतर्क मोड़ पर आ चुकी है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने संसद में इस संबंध में बयान दिया। कहा कि लोग डरे नहीं, जानकारी ही मंकीपॉक्स का बचाव है। मंडाविया ने बताया, 'स्वास्थ्य मंत्रालय जनता को जागरूक करने के लिए सभी राज्य सरकारों के साथ मिलकर जागरूरता अभियान चला रहा है।'

टास्क फोर्स गठित किया

मनसुख मंडाविया ने कहा कि हमने केंद्र सरकार की ओर से नीति आयोग के एक सदस्य की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का गठन किया है। उन्होंने कहा, 'टास्क फोर्स की टिप्पणियों के आधार पर हम आगे की कार्रवाई और अध्ययन करेंगे। यदि राज्य सरकार को केंद्र की मदद की जरूरत होगी तो वह दी जाएगी।'

देश में मंकीपॉक्स से पहली मौत

राजधानी दिल्ली में मंकीपॉक्स के तीसरे मरीज की पुष्टि हुई है। ये भी नाईजीरिया का निवासी है। इस तरह मंकीपॉक्स के दो मामले नाइजीरिया के लोगों में निकलते हैं। इसके अलावा देश में मंकीपाक्स से एक मौत भी हुई है। केरल के राजस्व मंत्री के. राजन ने कहा कि 22 वर्षीय युवक 21 जुलाई को यूएई से केरल लौटा था। थकान और बुखार आने पर वह त्रिसूर के एक अस्पताल में गया था, जहां 27 जुलाई को उसे भर्ती कर लिया गया था। 30 जुलाई को उसकी मौत हो गई। उसके नमूने को पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजा गया, जिसमें उसके संक्रमित होने की पुष्टि हुई।

किसी में भी फैल सकता मंकीपॉक्स

डब्ल्यूएचओ ने इन अफवाह को खारिज किया है कि मंकीपाक्स संमलैंगिक समुदाय या पुरुषों के बीच यौन संबंध से फैलता है। संगठन का कहना है कि संक्रमितों के सीधे संपर्क में आने वाले किसी भी व्यक्ति को यह संक्रमण अपनी चपेट में ले सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *