चयनित तीन जिलों में 623 हेक्टेयर क्षेत्र में हुआ बाँस-रोपण : वन मंत्री डॉ. शाह

भोपाल
वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह ने कहा कि 'एक जिला-एक उत्पाद' योजना में बाँस उत्पादन के लिए चयनित देवास, हरदा और रीवा जिले में पिछले वर्ष 623 हेक्टेयर क्षेत्र में बाँस का रोपण कराया जा चुका है। इसमें कृषि क्षेत्र में 263 हेक्टेयर क्षेत्र तथा मनरेगा योजना में 360 हेक्टेयर कृषि क्षेत्र में बाँस-रोपण का कार्य शामिल है। इस वित्त वर्ष के लिए इन तीनों जिलों में 1100 हेक्टेयर कृषि क्षेत्र, वन क्षेत्र में मनरेगा योजना से 250 हेक्टेयर क्षेत्र और वन विभाग की योजनाओं में 750 हेक्टेयर क्षेत्र में बाँस-रोपण का लक्ष्य दिया गया है।

वन मंत्री डॉ. शाह ने बताया कि 'एक जिला-एक उत्पाद' योजना में प्रदेश के 6 जिले चयनित किये गये हैं। इसमें बैतूल जिले में सागौन, अलीराजपुर एवं उमरिया जिले में महुआ और देवास, हरदा और रीवा जिले को बाँस उत्पादन के लिए शामिल किया गया है। बाँस के लिए चयनित इन तीन जिलों के लिए पाँच वर्षीय रोडमेप तैयार कर उपलब्ध बाँस संसाधनों के मुताबिक लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं।

वुडन क्लस्टर से 1600 व्यक्तियों को मिलेगा प्रत्यक्ष रोजगार
वन मंत्री डॉ. शाह ने बताया कि बैतूल जिले को सागौन उत्पादन के लिए चयनित किया गया है। जिले में वुडन क्लस्टर के लिए भूमि चयन प्रक्रिया में है। वुडन क्लस्टर के लिये 71 निवेश कलाओं द्वारा तकरीबन 87 करोड़ रूपए निवेश कर इकाइयाँ चयनित की जायेंगी। इन इकाइयों से 1600 व्यक्तियों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। इसी तरह अलीराजपुर और उमरिया जिले में महुआ उत्पाद के लिए हितग्राहियों का चयन, प्रक्रिया में है। इन दोनों जिलों में वनोपज के उत्पादन के लिए बाह्य स्थलीय वृक्षा-रोपण कराया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *